राम मंदिर के लिए 613 किलो का घंटा पहुंचा अयोध्या, 10 किलोमीटर तक सुनाई देगी आवाज और साथ ही…

दो साल पहले सुप्रीम कोर्ट ने अपने अहम फैसले में अयोध्या में राम मंदिर निर्माण का रास्ता साफ कर दिया था जिसके बाद श्री राम जन्मभूमि पर बनी अवैध मस्जिद को लेकर चल रहा दशकों पुराना विवाद खत्म हो गया। अब राम मंदिर का निर्माण कार्य भी शुरू हो गया है। भगवान राम के भक्त मंदिर निर्माण के लिए भरपूर दान दे रहे हैं।

इतना ही नहीं राम भक्त ऑनलाइन और अयोध्या पहुंचकर भी दान कर रहे हैं। रामलला के पास अब तक कई अरब रुपये से ज्यादा चंदा के रूप में आ चुके हैं। भूमि पूजन के बाद भक्तों की ओर से दान राशि में तेजी से इजाफा होता है और ट्रस्ट द्वारा शुरू किए गए अभियान में भी लोगो ने जी खोलकर दान किया है।

613-kg-ghanta-in-shree-ram-mandir-temple-ayodhya

राम लला के मंदिर के लिए दिए गए दान किए गए सोने का स्टॉक इतना बढ़ गया कि ट्रस्ट को सोने के बदले नकद दान करने के लिए कहना पड़ा है। वही अब भव्य राम मंदिर के लिए 613 किलो की विशाल घंटा दान किया है और यह कोई ऐसा वैसा मामूली घंटा नहीं है बताया जा रहा है कि इसकी आवाज 10 किलोमीटर से भी ज्यादा दूर तक सुनाई देगी।

राम जन्मभूमि परिसर स्थित रामलला के अस्थाई मंदिर के लिए बुधवार को अनोखी के है अनोखा घंटा भेंट किया गया। इस घंटे को बजाने पर ॐ की ध्वनि निकलेगी जिसकी आवाज करीब 10 किलोमीटर से भी दूर तक सुनाई देगी।

613-kg-ghanta-in-shree-ram-mandir-temple-ayodhya

तमिलनाडु के रामेश्वरम से 613 किलो वजनी कांसे से बना यह विशेष घंटा मंगलवार को राम रथ यात्रा से 4500 किलोमीटर का सफर तय कर अयोध्या पहुंचा। तमिलनाडु के कानूनी अधिकार परिषद द्वारा इस विशेष घंटे को भगवान श्री राम को भेंट किया गया है।

विश्व कीर्तिमान बना चुकीं बुलेट रानी के नाम से मशहूर राजलक्ष्मी माडा स्वयं रामरथ चलाकर तमिलनाडु से अयोध्या पहुची हैं। तमिलनाडु की रहने वाली राजलक्ष्मी मांडा 9.5 टन वजन खींचने का विश्व रिकॉर्ड बनाने वाली दुनिया की दूसरी महिला हैं।

613-kg-ghanta-in-shree-ram-mandir-temple-ayodhya

राम रथ में 613 किलो वजनी कांसे से बने विशेष घंटे के साथ साथ भगवान श्री राम, माता सीता, लक्ष्मण जी, हनुमान जी के साथ गणपति जी की कांसे की प्रतिमाएं भी लाई गई हैं। जिन्हे रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के कार्यालय में रामलला को भेंट किया गया।

राज लक्ष्मी के अनुसार राम रथ यात्रा के दौरान इस विशेष घंटे और भगवान श्री राम, लक्ष्मण जी, माता सीता, हनुमान जी और गणेश जी की मूर्तियों की जगह जगह पूजा की गई और लोगो ने भरपूर आस्था दिखाते हुए राम रथ यात्रा में अपना सहयोग दिया।

613-kg-ghanta-in-shree-ram-mandir-temple-ayodhya

विशेष आकार के इस घंटे का वजन 613 किलोग्राम है जो एक विशेष कांस्य से बना है। इसकी चौड़ाई 3.9 फीट और ऊंचाई 4 फीट है। राजलक्ष्मी मांडा का कहना है कि उन्होंने खुद भगवान श्रीराम के रथ को तमिलनाडु से अयोध्या तक चलाया है और उन्हें राम काज में मेरी ना हिस्सा बनकर बेहद खुशी हुई है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *