कांवड़ यात्रा को लेकर CM योगी ने सुनाया बड़ा फैसला, कहां कुछ भी हो जाए…

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को यु ही हिंदू हृदय सम्राट योगी आदित्यनाथ के नाम से देश भर में प्रचलित नहीं है, इसके पीछे कई कारण हैं। आज हम आपके लिए एक ऐसी खबर लेकर आए हैं, जिसे पढ़ने के बाद आप समझ जाएंगे कि योगी आदित्यनाथ को हिंदू हृदय सम्राट योगी आदित्यनाथ क्यों और किस वजह से कहा जाता है।

Cm Yogi On Kawad Yatra

कांवड़ यात्रा को लेकर खासकर युवाओं में खासा उत्साह है। कांवड़ यात्रा में बच्चों से लेकर बड़े भी शामिल होते हैं। कावड़ यात्रा में आपने ज्यादातर युवाओं को देखा होगा। पिछले साल कोविड के कारण कोई भी कावड़ यात्रा नहीं कर पा रहे थे। कावड़ यात्रा फिर से शुरू कराने के लिए योगी आदित्यनाथ अब कोर्ट का दरवाजा खटखटा रहे हैं। क्या है पूरा मामला, आइए आपको विस्तार से बताते हैं।

उत्तर प्रदेश सरकार को नोटिस जारी

आपको बता दें कि योगी आदित्यनाथ ने कावड़ यात्रा आयोजित करने के लिए कोर्ट में याचिका दायर की थी, जिस पर पिछले दिनों सुनवाई होनी थी। सुप्रीम कोर्ट ने कांवड़ यात्रा आयोजित करने के सीएम योगी आदित्यनाथ के फैसले पर अब स्वत: संज्ञान लिया है। न्यायमूर्ति रोहिंटन एफ नरीमन की अध्यक्षता वाली पीठ ने सुनवाई करने के लिए केंद्र सरकार और उत्तर प्रदेश सरकार को नोटिस दिया है।

आज होगी सुनवाई

सुप्रीम कोर्ट ने कांवड़ यात्रा को लेकर पिछली सुनवाई में स्वत: संज्ञान लेते हुए कोर्ट की सुनवाई बढ़ा दी। आपको बता दें कि कावड़ यात्रा शुरू करने को लेकर कोर्ट की अगली सुनवाई 16 जुलाई यानी आज होगी। कोर्ट ने पिछली सुनवाई के दौरान आश्वासन दिया था कि कांवड़ यात्रा शुरू होनी चाहिए। जस्टिस नरीमन ने कोर्ट की सुनवाई आगे बढ़ाते हुए कहा कि हमने परेशान करने वाली खबर पढ़ी है कि यूपी सरकार कांवड़ यात्रा की इजाजत दे रही है, जबकि उत्तराखंड सरकार ने इस पर रोक लगा दी है।

योगी आदित्यनाथ ने दी कावड़ यात्रा की अनुमति

आपको बता दें कि इस साल 25 जुलाई से शिव भक्तों के लिए कांवड़ यात्रा शुरू की जाएगी। यह सच है कि योगी आदित्यनाथ हर साल कांवड़ियों के लिए खास इंतजाम करते हैं। कांवड़ियों के लिए अलग-अलग जगहों पर पानी की व्यवस्था की गई है। विश्राम के लिए टेंट लगाए जाते है। साथ ही उनके स्वागत में हेलीकॉप्टर से फूलों की वर्षा भी की जाती है। शिव भक्तों के लिए वह क्षण अत्यंत प्रसन्नता का होता है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *