लोटस टेम्पल के बारे में कुछ रोचक बातें

लोटस टेम्पल के बारे में कुछ रोचक बातें – भारत की राजधानी कही जाने वाली दिल्ली के कमल मंदिर आज भी लोगो के आकर्षण का केंद्र बना हुआ है इस मंदिर की स्थापना 19वीं शताब्दी में ईरान के बताई धर्म के लोगों के द्वारा किया गया था जो आज नेहरू प्लेस में स्थित है।

जिसका आकार देखने में एकदम कमल के फूल दिखाई देता है इस लोटस टेंपल को 19वी शताब्दी का ताजमहल भी कहा जाता है। भारत में मौजूद सभी लोकप्रिय मंदिरों में से यह एकमात्र ऐसा मंदिर है जहां किसी भी धर्म का कोई भी व्यक्ति आराधना कर सकता है। कमल मंदिर से जुड़ी रोचक तथ्यों के बारे में जानकारी प्राप्त करने के लिए कृपा करके पोस्ट को लास्ट तक जरूर पढ़ें।

लोटस टेंपल है उपासना मंदिर

कमल मंदिर को एक नए धर्म बहाई धर्म के उपासना करने वाले लोगो के द्वारा बनाया गया था यह मंदिर इतना आकर्षक बना हुआ है कि हर कोई उसकी ओर आकर्षित हो जाता है जिसे कनाडा के पश्चिम आर्टिटेक फाइब्रोजन साहब के द्वारा डिजाइन किया गया था।

जिसमे किसी भी तरह की मूर्ति स्थित नही है और न ही इस मंदिर में किसी तरह के धार्मिक अनुष्ठान किए जाते हैं यही कारण है कि इस मंदिर मैं किसी भी धर्म के लोग प्रार्थना कर सकते है। जो 26 एकड़ की जमीन पर बना हुआ है कमल की आकृति होने के कारण यह भारत के राष्ट्रीय पुष्प कमल और भारती संस्कृति का प्रतीक माना जाता है।

Read More – एलोरा की गुफाओं से जुड़ी कुछ रोचक जानकारियां

लोटस टैंपल का इतिहास

लोटस टेंपल 1986 में बनकर तैयार हुआ था जिसे बनाने में 1 करोड डॉलर का खर्च आया तथा इस मंदिर को पूरे 10 सालों में बना कर तैयार किया गया था इस मंदिर को बनाने में अलग-अलग आकार के संगमरमर के पत्थरों का प्रयोग किया गया है जिसकी वजह से यह बीसवीं शताब्दी का ताजमहल के नाम से भी जाना जाता है।

जो बिल्कुल कमल के पशु के समान दिखाई देता है यह मंदिर सागर की एकता और शांति का प्रतीक माना जाता है यह पूरे विश्व में सबसे बड़ा और शाम तक प्रार्थना स्थल माना जाता है जहां कोई भी व्यक्ति अपने अपने इष्ट देव या धर्म की प्रार्थना कर सकता है क्योंकि इस मंदिर में कोई भी मूर्ति नहीं है जो एशिया महाद्वीप मेघना एकमात्र बताई प्रार्थना स्थल है।

लोटस टेम्पल के बारे में कुछ रोचक बातें

लोटस टेंपल के बारे में कुछ रोचक तथ्य निम्न प्रकार से नीचे बताए गए हैं जैसे-

  1. यह मंदिर इतना विशाल है कि इस मंदिर में एक बार में लगभग 24000 से भी अधिक लोग आ सकते हैं।
  2. इस मंदिर में वस्तु कला का अद्भुत प्रदर्शन किया गया है जिसकी वजह से इसे बीसवीं शताब्दी के ताजमहल के नाम से भी जाना जाता है।
  3. कमल मंदिर को बनाने में सफेद संगमरमर का उपयोग करके कई तरह के कलात्मक प्रकृति दृश्य जैसे बगीचा रास्तों और लॉन का निर्माण किया गया है जो शांति और आध्यात्मिकता के लिए एक स्वर्ग के समान है।
  4. ताजमहल के बाद लोटस टेंपल एक ऐसा पर्यटक स्थल है जहां हर साल 4 मिलियन से अधिक लोग आते हैं यानी कि रोजाना लगभग यहां 10000 से भी अधिक बैठक देश-विदेश से आते है।
  5. इस मंदिर के निर्माण मैं 700 इंजीनियर टेक्नीशियन कलाकारों तथा कामगारों ने मिलकर 10 सालों में तैयार किया था जो अपने आप में एक अद्भुत मंदिर है।

निष्कर्ष

नई दिल्ली के नेहरू प्लेस में स्थित लोटस टेंपल दुनिया के 8 अजूबों में से एक माना जाता है जो इतना विशाल है कि लगभग 24000 से भी ज्यादा लोग एक साथ यहां प्रार्थना कर सकते हैं आई होप कि आपको हमारा आपका यह लेख पसंद आया होगा, अगर आपको हमारा आर्टिकल पसंद आया हो तो इसे सोशल मीडिया अकाउंट पर अपने दोस्तों के साथ शेयर करे।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *