Taj Mahal facts in Hindi जो काफी रहस्मयी है जिनके बहुत काम लोग जानते है।

Taj Mahal facts in Hindi जिन्हे बहुत काम लोग ही जानते है हमने About taj mahal in hindi 10 points बताया है जी की काफी महत्पूर्ण है।

अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बिल क्लीनड जब भारत आए थे तो उन्होंने ताजमहल को देख कर कहा कि इस दुनिया में दो ही तरह के लोग हैं। एक वह जिन्होंने ताजमहल देखा है और दूसरे जिन्होंने ताजमहल नहीं देखा। होंगे इस दुनिया में एक से बढ़कर एक खूबसूरत इमारतें लेकिन ताज जैसा कोई नहीं क्योंकि इसकी बुनियाद में एक बात से मैं अपना दिल रखा है। हमने आज ऐसे ही कुछ 16 facts about Taj Mahal को बताया है। इन सभी शख्स को जानने के लिए बनी रहे हमारे साथ TRENDS FACTS पर।

Taj Mahal facts in Hindi जो काफी रहस्मयी है जिनके बहुत काम लोग जानते है।

About taj mahal in hindi 10 points जिन्हे बहुत कम लोग जानते है

  • हजारों टूरिस्ट जो दुनिया भर से ताजमहल देखने आते हैं।
    वह यह नहीं जानते कि वह जो देख रहे हैं वह ताजमहल का पिछला हिस्सा है। दरअसल जो शाही दरवाजा है वह नदी के किनारे दूसरी ओर हैं।
  • आज ज्यादातर टूरिस्ट्स ताजमहल को वैसा नहीं देख पाते जैसा शाहजहां ने चाहा था। मुगल काल में ताजमहल तक पहुंचने के लिए नदी मुख्य मार्ग चाहिए यह एक प्रकार की हाईवे थी। बादशाह और उनके शाही मेहमान नाव में बैठकर आते थे। नदी के किनारे एक चबूतरा हुआ करता था। नदी बढ़ती गई और वह बहुत पहले ही नष्ट हो गया। बादशाह और उनके मेहमान उसी चबूतरे से ताज आया करते थे।
  • यह तो हमेशा से कहा जाता है की ताजमहल बनाने वाले मजदूरो के हाथ शाहजहां ने कटवा दिए थे। लेकिन यह बात एक अखबार ऐसी लगती है क्योंकि इस बात का कोई प्रमाण मौजूद नहीं है। बहुत से इतिहास कारकों का मानना है किसान ने उन मजदूरों को जिंदगी भर की पगार दे दी थी ताकि वह धन के लिए दूसरी ऐसी महल को ना बना पाए।
  • ताजमहल के चारों ओर जो चार मीनारें हैं, वह सीधी खड़ी नहीं है बल्कि वह 4 महीना रे बाहर की तरफ हल्की हल्की सी मुड़ी हुई है। और इन्हें ऐसा ही बनाया गया था। ताकि कभी भूकंप आए तो वह मीनारें बाहर की तरफ गिरे ना कि उस मकबरे की तरफ।
  • कुतुब मीनार के बारे में तो आप सबने सुना ही होगा वह भारत की सबसे ऊंची मीनार है। लेकिन शायद आपको जानकर हैरानी होगी। की ताजमहल की ऊंचाई कुतुब मीनार से भी ज्यादा है। ताजमहल की ऊंचाई 73 मीटर है जबकि कुतुबमीनार की ऊंचाई 72.5 मीटर है
  • दुनिया में जितने भी ऐतिहासिक इमारतें मौजूद हैं इनमें सबसे सुंदर कैलीग्राफी ताज पर हुई है। जैसे ही आप ताज के दरवाजे में प्रवेश करते हो तभी एक सुंदर सा सुलेख आपका स्वागत करता है।

हे आत्मा! तू ईश्वर के पास ही रह”।

विश्राम कर ईश्वर के पास।

शांति के साथ रह तथा उसकी

परम शांति तुझपर बरसे।।

  • यह कैलीग्राफी thulut लिपि में है। इस कैलीग्राफी को डिजाइन करने वाले का नाम अब्दुल हक था। जिसे ईरान से बुलाया गया था। शाहजहां ने उसकी चकाचौंध कलाकारी को देखकर उसका नाम अमानत खान रख दिया।
  • जिस वक्त शाहजहां बादशाह बने वह दिन मुगल सल्तनत का सबसे खुशहाल दिन था हम यू कह सकते हैं की शाहजहां। शाहजहां का जमाना मुगल सल्तनत के इच्छा अनुसार था। चारों तरफ अमन और खुशहाली थी। प्रजा के लिए बादशाह का हुकुम ही सबसे ऊंचा होता था। शाहजहां के बादशाहत में लड़ाइयां नहीं होती थी। वह गजब का शानो शौकत वाला युग था। बादशाह को बड़ी-बड़ी इमारतें बनाने का बहुत शौक था। उन्होंने गूगल वास्तु के साथ भारत के प्राचीन संस्कृति को मिला दिया था।Taj Mahal facts in Hindi
  • ताज महल जैसी भव्य इमारत को दुनिया में आज तक किसी ने नहीं देखा था। इसके लिए सफेद संगमरमर राजस्थान के मकराना से लाया गया था। जेड और क्रिस्टल चाइना से मंगवाया गया था। ऐसे ही लगभग 28 बेशकीमती स्टोन्स को सफेद संगमरमर में सकता गया था। कहा जाता है कि इंसभी स्टोंस को विदेशी से आगरा लाने के लिए कम से कम 1000 हाथियों की जरूरत पड़ी थी।
  • ताज महल आज से करीब 400 साल पहले सन् 1631 में बनना शुरू हुआ था और 1653 में बं के तयार हो गया। इसे बनाने के लिए कम से कम 20000 से भी ज्यादा मजदूरों को बुलाया गया था।
  • सन् 1957 के क्रांति के दौरान अंग्रेजों ने ताजमहल को काफी नुकसान पहुंचाया। उन्होंने lapis lasely जैसे कहीं बेशकीमती हीरों की ताजमहल की दीवारों से खोद के निकाल लिया था।
  • ताजमहल के जो मुख्य गुंबज काजू कलश है वह किसी जमाने में सुने क्या हुआ करता था लेकिन 19 वी सदी के शुरुआत में उस कलश को हटाकर काशे का कलश लगा दिया गया था।
  • दावे के साथ तो नहीं कहा जा सकता है ताजमहल का नक्शा किसने बनाया था लेकिन कहां जाता है 37 लोगों की टीम ने मिलकर ताजमहल के नक्शे को तैयार किया था दूर-दूर से आए हुए अलग-अलग देशों के उस समय के इंजीनियर थे जिन्होंने ताजमहल के नक्शे को बनाया। Taj Mahal facts in Hindi
  • ताजमहल की नीव बनाते समय ताजमहल के चारों कई सारे को खोले गए जिनमें एक पत्थर के साथ साथ आबनूस और महोगनस के बड़े-बड़े लट्ठे डाले गए आबनूस और महोगनस की लकड़ियों में एक खासियत होती है किए जितनी ज्यादा नमी सकते हैं उतनी ज्यादा ही फौलादी होते हैं। फनी लकड़ियों को नमी ताजमहल के किनारे यमुना नदी से मिल जाती है। लेकिन गुजरते समय के साथ-साथ यमुना का जलस्तर भी धीरे-धीरे कम होता जा रहा है जिसके वजह सेलकड़ियों को नमी नहीं मिल पा रही जिसके परिणाम स्वरूप हमें ताजमहल में कई सारे तारा रही भी देखने को मिल रही है।
  • 1953 में जब ताजमहल बनकर तैयार हो गई तब इसकी निर्माण की कीमत करोड़ों में आंकी गई थी उसी हिसाब से अगर हम आज के समय में ताजमहल बनवाड़ा चाहे तो यह लगभग 57 अरब ₹600000000 लग जाएंगे।
  • दूसरे विश्वयुद्ध के समय सरकार ने मकबरा के चारों ओर बांस का घेरा लगवाया था ताकि बमबारी से ताजमहल को बचाया जा सके और इसी तकनीक को सन 1957 में हुए इंडिया और पाकिस्तान के युद्ध के दौरान की लागू किया गया था।
  • शाहजहां का पूरा ध्यान हमेशा ताजमहल को खूबसूरत बनाने में ही लगा रहता था जिसका फायदा उनके बेटे औरंगजेब ने उठाया और एक दिन आगरा पर अपने पिता के खिलाफ हमला कर दिया और अपने पिता को बंदी बना लिया । कक्षा जाने का मुझे एक ऐसी जगह पर क्या करना जहां समय ताजमहल को अच्छे से देखता हूं और उनकी यह इच्छा पूरी की गई जिसके कारण शाहजहां हमेशा ताजमहल को अपनी आंखों के सामने देख पाते थे।
  • दोस्तों और सबसे बड़ी बात या कहीं जाती है शाहजहां ताज महल के सामने एक और काले संगमरमर से बने ताजमहल को बनवाना चाहते थे जिनमें उनके कब्र को रखा जाए। लेकिन कहीं सारे इतिहासकारों का मानना है कि यहां सभी अफवाहें क्योंकि ताजमहल के ठीक सामने जहां पर काला ताजमहल बनाने की बात की गई है वहां ऐसा कोई सबूत नहीं मिला जिससे यह बताया जा सके कि वहां काला ताजमहल का निर्माण कराए जाने वाला था।

About the post

दोस्तों आज हमने कमाल के  Taj Mahal facts in Hindi को जाना। यह भी हमारे फैक्ट्स सीरीज का ही हिस्सा है जहां हम तरह तरह के कमाल के facts ko aapke सामने लाते हैं। इस Taj Mahal facts in Hindi में भी हमने कमाल की बाते जानी। जैसे – ताज महल क्यों बनवाया गया था? ताज महल कैसे बना था ? आदि ऐसे कई सारे फैक्ट्स हैं जिन्हें जानकर आप जरूर चौक गए होंगे। ऐसे ही कमाल के फैक्ट्स को जानने के लिए बने रहे हमारे साथ।

धन्यवाद!!!!

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *